How to Easily Know About DNA

Guys| अगर आपके पास Fevicol है तो जरा सा फेविकोल अपनी कुर्सी पर लगा दीजिए| आप भी कहेंगे वो क्यों भला ? वो इसलिए दोस्तों, ताकि आज का हमारा ये article आप मिस न कर दें| आज हम जो topic आप लोगों के साथ share करने जा रहे हैं वो बेहद रोमांचक है| आज हम आपको बताएंगे DNA Ka Full Form के बारे में| कभी न कभी कहीं न कहीं आपने DNA शब्द तो सुना ही होगा| हम गारंटी के साथ कह सकते हैं की DNA word उन लोगों ने तो जरूर सुना होगा जो फ़िल्में देखने का शौक रखते हैं| क्यूंकी किसी न किसी फिल्म के dialogue के रूप में DNA वर्ड तो जरूर use किया जाता है| इसीलिए हम आपको बताने जा रहे हैं DNA Ka Full Form के बारे में| DNA Ka Full Form जानकर अपने तक ही सीमित मत रखिएगा| हो सके तो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भी DNA Ka Full Form की जानकारी दीजिएगा| साथ ही जो लोग competitive exams की तैयारी कर सरकारी बाबू लगना चाहते हैं उनको तो ये मालूम होना ही चाहिए की DNA Ka Full Form क्या है? क्योंकि किसी न किसी Competitive Exam में ये सवाल जरूर आ जाता है की DNA Ka Full Form क्या है? या फिर DNA Ka Full Form के अलावा भी कुछ सवाल DNA से पूछ ही लिए जाते हैं| तो चलिए जानते हैं कि DNA Ka Full Form क्या है? हाँ दोस्तों, एक बात और है| हम आपको DNA Full Form In Hindi में समझाएंगे| क्योंकि जब तक आप DNA Full Form In Hindi में नहीं समझेंगे तब तक आपको DNA Ka Full Form के बारे में समझ नहीं आएगा| ना ही आप दूसरों को समझा पाएंगे की DNA Full Form In Hindi क्या है? चलिए शुरू करते हैं और आपको बताते हैं कि DNA Ka Full Form क्या है?

Full Form Of DNA | DNA Ka Full Form

Deoxyribonucleic Acid| अगर DNA Ka Full Form को हम हिंदी में जानेंगे तो वो होगा डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल| लेकिन केवल DNA Ka Full Form जान लेने से ही काम नहीं चलेगा| आपको ये भी जानना होगा की DNA सबसे ज्यादा हमारे शरीर में किसमें पाया जाता है? ये सबसे ज्यादा हमारी body में मौजूद केन्द्रक यानी nucleus में पाया जाता है| दोस्तों, DNA एक लहरदार और सीढ़ीनुमा आकृति होती है| हमारे शरीर के विकास में DNA का महत्वपूर्ण योगदान होता है|

दूसरे नंबर पर DNA Mitochondria में भी सबसे ज्यादा पाया जाता है| अब जो हम आपको बताने जा रहे हैं, वो आप में से बहुत से लोग नहीं जानते होंगे| एक शोध में पाया गया है की सभी मनुष्यों में 90 % DNA मैच होता है| दो अलग अलग मनुष्यों का भी 90 प्रतिशत DNA मैच होता ही है| ऐसी बहुत सी प्रक्रिया हैं जो दो अलग अलग इंसानों के शरीर में मेल खाती हैं|

जैसे आप भी बोलते हैं, सामने वाला इंसान जो आपसे अलग है वो भी बोलता है| आपके पास भी दो आँखें हैं, सामने वाले के पास भी दो आँखें हैं| बॉडी में 90 % DNA same होने के बावजूद दो अलग इंसानों की शकल आपस में क्यों नहीं मिलती हैं? इसका कारण है 10 % DNA का ना match होना| चाहे सजीव हो या निर्जीव, सभी में 0. 2 प्रतिशत DNA transfer होना निश्चित ही है|

चलिए इसे एक example से समझते हैं| आपने देखा होगा की जब भी कोई murder case होता है और by chance जिसने मर्डर किया है उसकी बंदूक वहीं पर छूट गई तो पुलिस मौके पर पहुँच कर सीधा उस बंदूक को अपने हाथ में नहीं लेती है| क्योंकि पुलिस को मालूम है की अगर उन्होंने इसे हाथ से छू लिया तो उसका 0.2 % DNA उस बंदूक में transfer हो जाएगा|

इसलिए पुलिस किसी रुमाल या अन्य कपड़े से उस evidence यानि सबूत को touch करती है| इसके साथ ही हम इंसानों में जो Genetic Disorder पाया जाता है उसका कारण भी DNA ही होता है| DNA के जरिए किसी भी बच्चे के माता पिता का पता लगाया जा सकता है| क्यूंकि बच्चे में माता और पिता दोनों के जींस होते हैं| पेरेंट्स के गुणों और अवगुणों को बच्चे तक पहुंचाने का काम DNA द्वारा ही किया जाता है| आपको बता दें, DNA की सबसे छोटी इकाई को जींस कहा जाता है| DNA का नाम nuclic acid इसलिए है क्योंकि ये nuclious में पाया जाता है| शायद आप में से बहुत कम लोग ये जानते होंगे की हर nuclious में chromosoms की संख्या अलग-अलग होती है|

DNA की खोज किसने की ?

दोस्तों, आपके मन में कभी न कभी ये सवाल आया होगा की आखिर DNA की खोज किसने की है ? दरअसल, DNA की खोज एक नहीं बल्कि दो वैज्ञानिकों ने मिलकर की थी| उनके नाम हैं जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक| इन दोनों वैज्ञानिकों ने ही 1953 में DNA की खोज की थी| इसी खोज के कारण ही 1962 में दोनों को नोबेल पुरस्कार से भी नवाजा गया था|

अब जानते हैं की न्यूक्लियोटाइड क्या होता है ?

दोस्तों, DNA का निर्माण चार मुख्य धातुओं से मिलकर होता है एडेनिन, साइटोसिन, गुआनिन और थाइमिन| बात की जाए न्यूक्लियोटाइड की तो ये एक ऐसा कार्बनिक अणु होता है जो आर एन ए तथा डी एन ए का निर्माण खंड है|

दोस्तों अब तक आपने ये जाना की DNA Full Form In Hindi क्या है ? हमने आपको DNA Full Form In Hindi में इसलिए समझाया ताकी आपको अच्छे से समझ में आ जाए की DNA Full Form In Hindi क्या है और DNA Full Form In Hindi के बारे में कोई आपसे पूछ ले तो आप बता सकें की DNA Full Form In Hindi आखिर है क्या? क्योंकि अगर आप science field से हैं या फिर competitive exams की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी था की DNA Full Form In Hindi क्या है? क्योंकी अक्सर exam में ये सवाल आ ही जाता है कि DNA Full Form In Hindi क्या है? डीएनए फुल फॉर्म के बारे में अब चाहे कोई भी आपसे पूछे आप तुरंत बता देंगे की डीएनए फुल फॉर्म क्या है? क्यूंकि दोस्तों, आपने इस article में अच्छे से जान लिया है कि डीएनए फुल फॉर्म क्या होती है? डीएनए फुल फॉर्म आपको अलग-अलग websites पर अलग-अलग मिलेंगे| कुछ websites में डीएनए फुल फॉर्म english में बताया होगा| लेकिन आज हमने जो डीएनए फुल फॉर्म आपको बताई है वो हिंदी और english दोनों में है और बिलकुल सटीक डीएनए फुल फॉर्म है| चलिए दोस्तों अब जानते हैं कि डीएनए कितने प्रकार के होते हैं यानी कि types of DNA?

DNA के प्रकार (Types Of DNA)

दोस्तों डीएनए फुल फॉर्म जानने के बाद हमें पता है की आपके मन में भी ये जिज्ञासा उत्पन्न हो रही होगी कि Types Of DNA कितने हैं? चलिए हम आपको बताते हैं| दरअसल DNA मुख्य रूप से 5 प्रकार के होते हैं| जो की इस प्रकार से हैं : –

DNA के प्रकार Types Of DNA

A (DNA)

दोस्तों, A DNA ऐसे cell में पाया जाता है जिसमें करीब 75 % Humidity होती है और जहाँ पर sodium, potassium तथा सीज़ीयम cells पाए जाते हैं| B DNA के मुकाबले इसका Diameter थोड़ा सा ज्यादा होता है यानी 2.6 Nano Meter| A DNA में Helix की height होती है 3.2 Nano Meter| A DNA में मेजर Grove Deep एंड Narrow होता है जबकि इसका माइनर grove shallow होता है|

B (DNA)

ऐसे cells जिसके अंदर humidity 92 % हो और concentration of iron कम होता है उसमें ये DNA पाया जाता है| इसे 1953 में वाटसन क्रिक ने प्रस्तावित किया था| बाकी डीएनए के मुकाबले ये थोड़े से metabolically stable होते हैं| इसका per ton distance यानी एक helix का जो difference होता है वो है 3.4 Nano Meter| जो इसका Diameter होता है वो है 2 Nano Meter|

C (DNA)

दोस्तों, ऐसे cells जो ऐसी condition में present होते हैं जहां पर relative humidity 66 % हो और lithium iron का concentration उस cell में ज्यादा हो वहां पर C DNA पाए जाते हैं|

D (DNA)

साथियों, D DNA में 8 BP/turn पाए जाते हैं| यही कारण है की इसे हम लोग Eight Fold Symmetry भी कह देते हैं| इसे ही Poly (DA-DT) या Poly (DG-DC) भी कहते हैं|

Z (DNA)

Z DNA लेफ्ट हैंडेड Double helix मॉडल होते हैं| ये anticlockwise मूव करता है| इसका backbone zigzag फॉर्म में होता है| इस प्रकार का DNA Mammals, Protozoa और कुछ पेड़ों की स्पीशीज में पाए जाते हैं| इसका base pair per turn है 12, जो की BDNA में 10 BP/Turn होता है| Z DNA का twisting angle है 60 degree जबकि BDNA का twisting angle होता है 36 degree| इसका Distance per turn है 4.5 Nano Meter| BDNA के मुकाबले ZDNA का diameter कम होता है| BDNA का diameter होता है 2 Nano Meter| जबकि ZDNA का diameter होता है 1.8 Nano Meter|

दोस्तों अब तक आपने जान लिया है की DNA Ka Pura Naam क्या है ? हम sure हैं दोस्तों अगर आपने ये article अब तक अच्छे से पढ़ा होगा तो आपको समझ आ ही गया होगा की DNA Ka Pura Naam क्या है? हमारे article को पढ़ने के बाद आप यकीनन, कभी भी नहीं भूल सकते की DNA Ka Pura Naam क्या है? चलिए DNA Ka Pura Naam ये जानने के बाद अब हम ये भी जान लेते हैं की DNA Test कब और क्यों करवाया जाता है?

क्या है DNA Test और क्यों किया जाता है ये?

दोस्तों, DNA Test एक Chemical Test है| बहुत सी जानकारियों का पता लगाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है| इसका इस्तेमाल court me सबूत के तौर पर भी किया जाता है| इस टेस्ट का इस्तेमाल करके किसी सबूत को किसी संदिग्ध व्यक्ति के साथ जोड़ा जा सकता है और गुनेहगार का पता लगाया जा सकता है| इस टेस्ट के द्वारा ही ये पता लगाया जाता है की आपके परिवार में पहले से किसी को कोई बीमारी तो नहीं है या फिर आने वाली संतान को बीमारी से बचने के लिए भी DNA Test करवाना जरूरी होता है| DNA Test खून के रिश्तों की पहचान के लिए भी करवाया जाता है| DNA Test का use किसी बॉडी की पहचान करने के लिए भी किया जाता है| क्यूंकि कई बार कोई dead body इतनी ज्यादा खराब हालत में होती है की पहचान करना मुश्किल हो जाता है की ये बॉडी आखिर है किसकी| मान लीजिए कोई व्यक्ति अंगदान करने का इच्छुक है तो सबसे पहले ये पता लगाया जाता है की जो व्यक्ति अंगदान कर रहा है और जिसको वो अंग लगाया जाना है दोनों के tissues मैच कर रहे हैं या नहीं| उसके लिए DNA Test का सहारा लिया जाता है|

इसके साथ यदि आपको EDI के बारे में जानकारी चाहिए तो आप EDI full form पढ़ सकते हैं

निष्कर्ष : (Conclusion)

दोस्तों, आज आप ने DNA Ka Full Form जान लिया है| DNA Ka Full Form अपने दोस्तों को भी बताइए| DNA Ka Full Form उन लोगों को तो पता ही होगा जो science stream से संबंध रखते हैं| लेकिन बाकी लोगों को नहीं पता होगा की DNA Ka Pura Naam क्या है? DNA Ka Pura Naam जान कर अगर आपको अच्छा लगा हो और हमारे द्वारा दी गई information पसंद आई हो तो DNA Ka Pura Naam दूसरों को बताने के लिए इसे ज्यादा से ज्यादा share करें|

Related articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest articles

Quinoa in Hindi Name और इसके फायदों की पूरी जानकारी सिर्फ यहां

Quinoa in Hindi Name: भारत के लोगों में क्विनोआ खाने का क्रेज तेजी से बढ़ता जा रहा है। हालांकि यह आसानी...

Hindi Varnamala Chart को विस्तार से जानिए

आज हम आपके लिए लाए हैं Hindi Varnamala Chart| इसमें आप ए से के तक Hindi Varnamala Chart कि सभी शब्दों...

मोटापे से हैं परेशान? तो Ragi in Hindi में जानिए इसके लाभ और नुकसान।

रागी के फायदे वजन कम करने में ही नहीं प्रोटीन से भरपूर रागी खाने के और भी कई फायदे हैं। शरीर...

टाइम बढ़ाने की मेडिसिन पतंजलि सेवन, दाम्पत्य जीवन होगा सुखी

टाइम बढ़ाने की मेडिसिन पतंजलि की पूरी जानकारी आपको हमारे इस article में मिलेगी| अगर आपकी भी s*x टाइमिंग कमजोर है...

ब्लड टेस्ट से जाने बाल झड़ने का 12 कारण

वर्तमान में 70 प्रतिशत युवा बाल झड़ने की समस्या से जूझ रहे हैं। बालों के झड़ने का कारण क्या है, इसके...

Newsletter

Subscribe to stay updated.